अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
07.16.2007
 
वह चीख चीख कर कहती है मैं आज की नारी हूँ
रचना सिंह

वह चीख चीख कर कहती है "मैं आज की नारी हूँ"
   वह आज की नारी है
         हर बात में पुरुष से उसकी बराबरी है
             शिक्षित है कमाती है
                  खाना बनाने जैसे
                        निकृष्ट कामों में
                             वक़्त नहीं गँवाती है
                         घर कैसे चलाए
                     बच्चे कब पैदा हो
               पति को वही बताती है
क्योंकि उसे अपनी माँ जैसा नहीं बनना था
          पति को सर पर नहीं बिठाना था
                 उसे तो बहुत आगे जाना था
                      अपने अस्तित्व को बचाना था

फिर क्यों
     आज भी वह आँख
           बंद कर लेती है
                जब कि उसे पता है
                      कि उसका पति कहीँ और भी जाता है
                              किसी और को चाहता है
                                   समय कहीं और बिताता है
    क्यों आज भी वह
          सामाजिक सुरक्षा के लिये
               ग़लत को स्वीकारती है
                     सामाजिक प्रतिष्ठा के लिये
                           अपनी प्रतिष्ठा को भूल जाती है
                                 और पति को सामाजिक प्रतिष्ठा कवच
                          कि तरह ओढ़ती
                  बिछाती है

पति कि गलती को माफ़ नहीं
करती है
पर पति की गलती का सेहरा
         आज भी
               दूसरी औरत के सर पर
                              रखती है
माँ जैसी भी नहीं बनी
और रूढ़िवादी संस्कारों से
आगे भी नहीं बढ़ी
फिर भी वह चीख चीखकर कहती है
             "मैं आज की नारी हूँ
                    पुरुष की समान अधिकारी हूँ"



अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें