अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

विस्फोट
रचना श्रीवास्तव


दर्द चीखा
     लहू बहा
          शहर काँपा
               दुनिया के नक्शे पे
                    भारत थरथराया
                           राम हुआ शर्मिंदा
               रहीम ने सर झुकाया


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें