अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

शोर
रचना श्रीवास्तव


चहुँ ओर है शोर बहुत
भीतर बाहर हर ओर
तभी सुनाई नहीं देती
हिमखंड के पिघलने की आवाज़
गाँव के सूखे कुँए की पुकार
धरती में नीचे जाते
जल स्तर की चीख

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें