अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

प्रेम बाहर पलेगा
रचना श्रीवास्तव


प्यार से जन्मा
आज का दिन
आज के दिन से
जन्मेंगे
न जाने कितने प्यार
स्वीकृति
स्वीकृति का दौर चलेगा
सभी के दिलों में
प्रेम पलेगा
कम से कम
आज के दिन तो ये होगा
अनकही भावनाओं को
शब्द मिलेंगे
ये शब्द रही बन
मंजिल की ओर चलेंगे
आज
शायद
साठसाला प्रेम भी जगेगा
होठ हिलेंगे इधर
उधर
निस्तेज पड़ी आँखों में
एक दीप जलेगा
रात की धरोहर
था जो फूल
आज दिन में खिलेगा
आज प्रेम भीतर नहीं
बाहर पलेगा
कम से कम
आज तो ये होगा


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें