अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
03.13.2014


दुआ

सूखे से तरसी आँखों ने
माँगी दुआ वर्षा की
पानी बरसा और बरसता ही चला गया
सब कुछ बहा गया
कुछ यूँ कबूल होती है
दुआ गरीबों की


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें