अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
03.13.2014


बुधिया सोचती है

बुधिया सोचती है
काश के वो चार आने
उसने मुनिया को दे दिए होते
जो उसने
कम्पस खरीदने को माँगे थे

सी दी होती उसकी फटी फ्रॉक
जो आज
स्कूल से आने के बाद
सीने वाली थी

काश के उसकी कॉपी पर
चढ़ा दी होती जिल्द
थकान के कारण
रोज कल पर टालती रही थी वो

उस दिन मेले में
दिला दिया होता
उसको बर्फ का गोला
कितना रोई थी
मुनिया उसके लिए

बुधिया सोचती है
ये सारे काम
अब वो कभी न कर पायेगी

बुधिया सोचती है
कल मुनिया और उसके दोस्तों को
शोर मचाने पर
नाहक ही उसने डाँटा था
अब इस बस्ती में
कभी न गूँजेंगी
इनकी आवाज़ें l

दर्द के इस सन्नाटे में
हर घर चीख रहा है
बुधिया सोचती है
काश के मुनिया आज भूखी रह गई होती
और इन चीखों में शामिल हो जाता है
उसका करुण क्रन्दन भी


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें