अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
03.13.2014


बटवारा

घर, धन, वृद्ध आश्रम के खर्चे
यहाँ तक कि कुत्ते भी बँटे
पर पिता के त्याग, प्यार
माँ के आँसू, दूध और पीड़ा
का कुछ मोल न लगा
क्योंकि पुरानी, घिसी चीज़ों का
कुछ मोल नहीं होता


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें