अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
02.27.2016


दुनिया बहुत आगे जा चुकी है...

मैं इण्डियन हूँ
सुबह - सुबह सो के उठा
अपना मोबाइल ढूँढा
मेरा मोबाइल एलजी का है
रिलायन्स का कनेक्शन है
आर वर्ल्ड की सुविधा है
सुबह - सुबह मूड हुआ
क्यूँ न कुछ मनोरंजन हो जाए
दुनिया कितनी आगे जा चुकी है
मोबाइल पर ही मनोरंजन हो जाता है

मैं घुस गया मोबाइल के अन्दर
मोर सर्विसेस के अन्दर
लिखा था, वुमेन्स वर्ल्ड
सोचा, अच्छा मनोरंजन मिल गया
सुबह - सुबह
उसी में था, ऑप्शन
बेबी नेम का
सोचा, चलो नाम ढूँढते हैं
मेरी बच्ची जब होगी तो
उसका नाम रख लेंगें और
बच्ची से कहेंगें
बेटी! तुम्हारा नाम
मैंने मोबाइल पर ढूँढा था
दुनिया कितनी आगे जा चुकी है

मगर, मेरे मनोरंजन की
शकल बिगड़ गयी
जब मैंने देखा
लिखा था
हिन्दू, मुस्लिम, सिख, क्रिश्चियन
अब मेरा मुँह बिगड़ गया
यहाँ भी यही सब
मैंने तो सोचा था
दुनिया बहुत आगे जा चुकी है

अब मैं कौन सा नाम लूँ
अपनी बच्ची के लिये
हिन्दू का................नहीं
इससे तो वो हिन्दू हो जाएगी
मुस्लिम का...........................
नहीं - नहीं
फिर तो वो अल्पसंख्यक हो जाएगी
सिख का...........................
नहीं ये भी नहीं
फिर तो वो
किसी दंगे में मार दी जाएगी
क्रिश्चियन का........................
नहीं ये भी ठीक नहीं
उसे लोग विदेशी कहने लगेंगे

मगर मैं क्या करूँ
मैं तो सोच रहा था, कोई
अच्छा सा नाम मिलेगा
मेरी बेटी को मगर
सब बेकार हो गया
मेरा दम घुटने लगा
पढ़ - पढ़ के
आभा - आरती
आयशा - आलिया
परमीत - हरकौर
जूली - जेनीफर
ये सब तो जाने - पहचाने हैं
मुझे कोई ऐसा नाम न मिला
जिसे मैं अपनी बेटी को दे सकूँ

उधर मुझे लगा
चारों...............अरे! वही चारों
हिन्दू, मुस्लिम, सिख, क्रिश्चियन
आपस में झगड़ रहे हैं
कि मेरा अच्छा है
मेरे में शान्ति है
मेरे में जन्नत है

मैं बोर होने लगा, मगर तभी
मैंने देखा
चार के चारों, भागे आ रहे हैं
मेरी ओर
मुझे लगा, मैं गया
आया था, नाम ढूँढने
ये सब मिलकर, मार डालेंगे

फिर क्या था
अभी तो मुझे बहुत कुछ
करना था
शादी भी, बेटी भी
मैं भागा, वो सब
मेरे पीछे
भागे आ रहे हैं
मेरा दम घुटने लगा

 मैं भागता रहा
वो भगाते रहे
बैक करते - करते
मैं डर रहा था
कहीं गलती से
हड़बड़ी में ही
कोई एक
सेलेक्ट न हो जाए
जब मैं बैक करते - करते
डिस्पले तक पहुँचा
तब जाके राहत मिली
और मैंने पीछे मुड़ के
देखा, चारों
मोबाइल के स्क्रीन की
जेल में बन्द हो गये
और आपस में कह रहे थे

\यार! हाथ नहीं आया कमीना
ये कहते वक्त, चारों अपने - अपने
हाथ मसल रहे थे
अब मैंने जाना
दुनिया कितनी आगे जा चुकी है


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें