अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
03.08.2009
 

नरम ख़ामोशी
प्रो. डॉ. पुष्पिता अवस्थी


प्रेम
अनुभूतियों का अन्वेषक है
प्रेम
अपने जीवन में
रचाअ है - नया जीवन

खोजता है -
स्नेह-सृजन के नूतन स्रोत

प्रेमानुभूति का तरल-पथ
अभिव्यक्ति की नरम ख़ामोशी
अनुभूति का मौनान्द
अनकहा -
पर भीतर-ही-भीतर
सबकुछ कहता हुआ
जिसे पहली बार सुनती है - आत्मा
और समझ पाती है -
प्रेम-सुख का अर्थ
जो
देह से उपजता है
देह से परे जाकर।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें