अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
03.08.2009
 

एकात्म के लिए
प्रो. डॉ. पुष्पिता अवस्थी


अधर चुप रहते हैं
आँखें खुली
पर
मौन।

आत्मा साधती है -
अलौकिक आत्म-संवाद
पर से एकात्म के लिए

सम्पूर्ण देह
पृथ्वी की तरह
सृष्टी करती है - प्रकृति का,
                            प्रकृति में,
                            प्रेम का
                            अनश्वर
                            और
                            अहर्निश।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें