अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
03.08.2009
 

धूप-ताप
प्रो. डॉ. पुष्पिता अवस्थी


धूप
निचोड़ लेती है
देह के रक्त से पसीना

माटी से बीज
बीज से पत्ते
पत्ते से वृक्ष
और वृक्ष से
निकलवा लेती है - धूप
सबकुछ

धूप
सबकुछ सहेज लेती है
धरती से
उसका सर्वस्व
और सौंप देती है - प्रतिदान में
अपना अविरल स्वर्णताप
कि जैसे -
प्रणय का हो यह अपना
विलक्षण अपनापन


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें