प्रो. डॉ. पुष्पिता अवस्थी


कविता

अमृत कुंड
एकात्म के लिए
धूप-ताप
नरम ख़ामोशी
प्रणय-मोक्ष