अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
06.03.2012


सुख-दुःख में जो साथ चले हैं

सुख-दुःख में जो साथ चले हैं
मीत यहाँ ऐसे विरले हैं

देखो नफ़रत की आतिश में
जाने कितने ख़्वाब जले हैं

और रखे क्या सामां पथ में
लेकर तेरी याद चले हैं

क्या लेना हमको बरसों से
पल में जी कर लौट चले हैं

धूप खिली है ’पुरू’ ख़ुशियों की
ग़म के बादल लौट चले हैं


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें