अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
06.03.2012


सैंकड़ों ग़म दिल पे अपने उठा कर चलते हैं

सैंकड़ों ग़म दिल पे अपने उठा कर चलते हैं
ज़िंदगी राह में फिर मुस्कुरा कर चलते हैं

फ़ासले फिसलन भरे अब ख़त्म हो जायें यहीं
इक यहीं उम्मीद हम दिल से लगा कर चलते हैं

कहने को हम मुस्कुराते ज़माने के लिये
दर हक़ीक़त ख़ुद को हम ख़ुद से छुपा कर चलते हैं

हर तरफ़ नफ़रत के उठते ज़लज़लों के बावजूद
लोग सीनों में मुहब्बत को छुपा कर चलतें हैं

अपनी परछाई बदन कुछ बड़ी क्या देख ली
डर के मारे आजकल हम सर झुका कर चलते हैं

किस के कब नज़दीक आ जाएँ, जुदा हो जाएँ कब
कुछ ख़बर उनकी नहीं वो पल में क्या कर चलते हैं

क्यूँ महल पड़ते नहीं इन बादलों की दृष्टि में
बिजलियाँ जब झोंपड़ों पर ये गिरा कर चलते हैं

उन तलक ग़ज़लों की कब होगी रसाई पुरु बता
दर्दो-ग़म जिनका तेरे अशार उठा कर चलते हैं


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें