अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
06.03.2012


ख़याल

 मैं बाइक चला रहा था, वो पीछे बैठा था। सामने दो फैशनेबल लड़कियाँ जा रही थीं। अपनी आदत के अनुसार वो आहें भरने लगा।

"यार, क्या मस्त आइटम है। सॉलिड बॉडी, फिट कपड़े, लहराते बाल। चलने का स्टाइल तो देखो। और ये बाजू वाली लड़की। अबे देख। कितने मोटे-मोटे कूल्हे हैं। तू टच हो जाए तो... समझ निकल ही जाए।"

मैं बाइक चलाता हुआ चुपचाप बढ़ गया। उसने मुड़कर पीछे देखा और लगभग चीख-सा पड़ा-

"अरे!"

"क्या हुआ?"

"ये तो शालिनी है।"

"कौन शालिनी?"

"मॉय सिस्टर!!"


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें