अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
07.12.2007
 
मैनेजमेंट
प्रमोद राय

 दफ्तर की तीन मंजिली इमारत बाहर से जितनी भव्य थी, अंदर से उतनी ही आलीशान। चमकते फर्श, दमकती दीवारें और वातानुकूलित माहौल। खटकता था तो सिर्फ सीढ़ियों के पास का वह कोना जहाँ, कोई न कोई गुटका या पान थूक दिया करता था। हर दो दिन पर दीवार के उस हिस्से की पुताई करनी पड़ती, अगले दिन फिर लाल-पीले धब्बे। स्वीपर से लेकर गेटकीपर तक तंग आ चुके थे। बात जनरल मैनेजर तक पहुँची। मैनेजर ने गणेश जी की एक सुंदर मूर्ति मंगवाकर उस जगह पर रखवा दी। अगले दिन से लोगों ने वहाँ थूकना बंद कर दिया।

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें