अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
06.16.2007
 
डिवाइडर
प्रमोद राय

                     

लोग आ रहे थे। लोग जा रहे थे। कुछ खड़े होकर देख रहे थे। दिल्ली पुलिस मुख्यालय के ठीक सामने सक के बीचोबीच डिवाइडर से सटी एक औरत कराह रही थी। कप्ड़े मैले थे। शरीर भी गंदा था। आने वाले, जाने वाले और खड़े होकर देखने वाले अधिकतर लोगों की राय थी कि कोई पागल है, जिसे किसी गाड़ी ने टक्कर मार दी है। बिलखती औरत थोड़ी-थोड़ी देर पर अपना सिर उठाती और भी की ओर देखती। मानो कह रही हो अरे कोई तो मुझे उठाओ, अस्पताल पहुँचाओं। लेकिन देखने वाले सिर्फ एक दूसरे का चेहरा देख रहे थे। एक ऑटो वाले ने उसके पास गाड़ी रोकी, लेकिन फिर आगे ब गया। एक बाइक की भी स्पीड वहाँ धीमी हुई, फिर तेज हो गई। काफी समय बीत गया। लोग आते रहे, लोग जाते रहे और लोग देखते रहे।  ..।

अगले दिन अखबार में मैंने एक खबर पढ़ी। सक दुर्घटना में महिला मजदूर की मौत। यह हादसा तब हुआ, जब गणतंत्र दिवस के मद्देनजर सड़क के डिवाइडर को चूने से रंगने का काम कर रही महिला को एक तेजी से जा रही कार ने टक्कर मार दी।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें