अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
07.12.2007
 
भाग्य विधाता
प्रमोद राय

न्यूज पोर्टल का “साप्ताहिक राशिफल” सेक्शन खूब हिट हो रहा था। कोई ऐसा दिन नहीं था, जब दो-चार ई-मेल न आते हों। पाठकों की जबर्दस्त प्रतिक्रिया को देखते हुए वेबसाइट के होमपेज पर “राशिफल” को थोड़ा हाईलाइट किया गया।

एक दिन कॉपी एडिटर राधेश्याम ने बॉस को बताया कि पंडित चतुरानन चतुर्वेदी के यहाँ से अभी तक राशिफल नहीं आया है। आमतौर पर राशिफल की कॉपी शुक्रवार तक दफ्तर में पहुँच जाती थी। राधेश्याम हस्तलिखित राशिफल को कंपोज करता, फिर उन्हें एडिट करके हर वीकेंड साइट पर अपलोड किया करता था। बॉस ने पंडित चतुरानन के यहाँ फोन करवाया तो पता चला कि आउट ऑफ स्टेशन हैं। बॉस ने खीझते हुए कहा, इसका भी भाव बढ़ता जा रहा है, लगता है कॉन्ट्रैक्ट तोड़ना पड़ेगा। फिर चुटकी बजाते हुए बोले, "यार राधेश्याम, एक काम करो। दो चार महीने पुराना राशिफल उठाओ, भाषा में थोड़ा फेरबदल करो और अपलोड कर दो।"

धश्याम ने वैसा ही किया। अगले हफ्ते फीडबैक और जबर्दस्त था। इस सेक्शन पर कई गुना ज्यादा “हिट”पड़े । ई-मेल की संख्या भी बढ़ी थी, जिनमें से कई में सटीक भविष्यवाणी के कसीदे पढ़े गए थे।

कुछ दिनों बाद फिर ऐसा हुआ कि पंडित चतुरानन चतुर्वेदी समय पर राशिफल नहीं भेज पाए। इस बार राधेश्याम को एक नया आयडिया सूझा। उसने पिछले महीने का राशिफल उठाया। राशियों का भाग्यफल परस्पर बदलते हुए मेष की जगह कर्क, तुला की जगह मिथुन और कुंभ की जगह धनु की भविष्यवाणियाँ “कट एण्ड पेस्ट” कर दीं। बिल्कुल नया राशिफल तैयार था।

कुछ दिनों बाद बेहतर फीडबैक और साइट की बढती रेटिंग को देखते हुए “साप्ताहिक राशिफल” को बदलकर “आज का राशिफल” कर दिया गया। अब यह सेक्शन रोजाना अपडेट होने लगा।

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें