अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
08.04.2014


विकल्प

जैसे
वो पौधा
मेरे आँगन का
बिन पानी के
धूप के कारण और
जो अनदेखा हुआ
वो सूखा है
बस तना भर
खड़ा है क्यारी में

उस दिन
जब फूल खिले थे
मेरी माँ के पसंदीदा
तब शायद
उनका ध्यान कहीं
उस सूखे पौधे पर
पड़ गया

पहले तो लगी
उखाड़ने पर
न जाने क्या सोच
पानी दे बैठीं

कहने लगी
विकल्प भी होने चाहियें
ताकि सम्भावना बनी रहे
हरे-भरे आँगन की

उनके
व्यवहार के इस
संदर्भ ने मुझे
सोच में डाल दिया

मैं सोचती हूँ
एक और
अपने पसंदीदा के
बाद क्या
सचमुच सभी
विकल्प मात्र हैं ताकि
सम्भावना बनी रहे
हरे-भरे आँगन की
क्या सच में
मैं एक विकल्प मात्र हूँ ??.....


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें