अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख पृष्ठ
03.31.2014

मन की ज्योति

 'खिलते फूल चटकती कलियाँ (२००९)

मन में है विश्वास अगर तो,
नयी राह भी मिल जायेगी !
हो मन में पाने की इच्छा,
वो भी पूरी हो जायेगी !

बस तुमको इतना ही करना,
निश्चय को मजबूत बनाना !
इसमें सब कुछ सहना होगा,
चाहो जो खुशियों क पाना !

इसी राहा में डटे रहे तो,
इक दिन ऐसा भी आएगा !
विपदाओं से लड़ते-लड़ते,
घोर अँधेरा मिट जाएगा !

मन कि ज्योति जलाये रखना,
नयी दिशाएं खुल जाएंगी !
हो जायेगा सपना पूरा,
औ' मेहनत भी रंग लाएगी !


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें