अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
07.06.2008
 

बिगाड़
प्रवीर कुमार वर्मा


न करो बिगाड़ दोस्तों से
न जाने कब काम आ जाए ।।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें