अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
07.06.2008
 

बहक गये
प्रवीर कुमार वर्मा


देखा जो आपको हम चहक गये
छुआ जो आपको हम बहक गये ।।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें