प्रवीर कुमार वर्मा


कविता

आम बात
दिल से
परेशान गिरगिट
बहक गये
बॉस
बिगाड़
बुरा किया
मशहूर
वक्त की सेहरा
सोचना
हिस्सा