प्रवीण श्रीवास्तव 'प्रसून'

दीवान
कभी दो चार दिन रोटी बिना
लौट कर फिर से जवानी आएगी