अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
10.21.2007
 
तमन्ना
प्रतिमा भारती

तारा कोई
टूटा है ज़रूर
एक टुकड़ा गिरा है दामन पर
और जला रहा है मुझे
तमन्ना की तरह


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें