डॉ. प्रतिभा सक्सेना

कविता
अभिशप्त
अश्रु-सरिता के किनारे
नारीत्व - एक गाली
मेरे बच्चो, दीवाली का पहला दीप वहाँ धर आना...
यात्री
सोने का हिरन
साँझ - धुबिनियाँ
व्यंग्य
कोफी अन्नान की बीवी
दर्द की दवा
पति-भ्रम
पत्नी का पल्ला
प्राइवेसी कहाँ
"फ़ैसला सुरक्षित है" - एक परिचय (सुमन कुमार घई)
सावधान, वे सड़कों पर घूम रहे हैं
कहानी
खिलौने
संशय
आलेख
 नचारी : एक मनमोहक लोक-विधा
बन-सिमिया
शक्ति और अभिव्यक्ति
बाल-साहित्य
धरती सजी रहे .