अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.25.2019


जा भैया जल्दी चल

झरनें झरते झर - झर - झर,
नदियाँ बहती कल- कल -कल।
सैर - सपाटे को झट निकलें,
राजा भैया जल्दी चल॥

बुलबुल, मैना, सुआ, चकोर
चूं-चूं चीं-चीं करते शोर।
धमा - चौंकड़ी हिरणों की,
कैसे छम-छम नाचे मोर॥
दृश्य मनोरम देखें जाकर।
प्यारे भैया चल-चल-चल॥

राजा भैया जल्दी चल॥1॥

भाँति-भाँति के फूल वहाँ,
हँसते खिलते मुस्काते।
मस्त पवन में सर-सर-सर
डाल-डाल सरगम गाते॥
ऐसा सुन्दर ठाँव देखने।
अच्छे भैया अब तो चल॥

राजा भैया जल्दी चल॥2॥


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें