अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
02.05.2018


बड़े मज़े का गाँव जी

सोनू-मोनू खेल रचाते,
बगिया की इक छाँव जी।
केला-अमरूद, सेब-संतरें,
लदे-भरे हर ठाँव जी॥1॥

चहुँ ओर है मनभावन,
रंग-बिरंगे फूल जी।
नदी किनारे गैया चरती,
सुधबुध अपनी भूल जी॥

आकर सुबह-शाम नित कौवा।
करता काँव-काँव जी॥2॥

झर-झर, झर-झर झरने झरते,
नदियाँ करतीं कल-कल जी।
हरे-भरे जहाँ पेड़ घनेरे,
खुशियाँ बाँटे हरपल जी॥

ऐसा सुंदर दृश्य देखकर।
थम-थम जाते पाँव जी॥3॥

भोले-भाले, सीधे-सादे,
अजब निराले लोग जी।
मीठे-मीठे फल चुन-चुनकर,
सदा लगाते भोग जी॥

छोटी-छोटी इनकी बस्ती।
बड़े मज़े का गाँव जी॥4॥


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें