प्रखर मालवीय "कान्हा"

दीवान
ख़ला को छू के आना चाहता हूँ
तीरगी से रोशनी का हो गया
मैं भी गुम माज़ी में था
रो-धो के सब कुछ...