अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
10.21.2007
 
मेरी छत
प्रकाश यादव निर्भीक

छूट गई पीछे
मेरी छत
इस शहर से कोसों दूर
सुदूर मेरे गाँव में
           जिसके नीचे
           न जाने कितनी
          मधुर यादें पली हैं मेरी
          गोधूलि की वेला में
                      अपने हमजोली के साथ
                      चिड़ियों के कलरव के बीच
                      कल्पना की नाव पर
                      विचरण करता हुआ
                      मेरा बचपन
                      कितने आशियाने बना डाले
                      अपने ख्वाबों के
                      अपनापन का अहसास था
                      उन सबों में
             लगता था बस यही दुनियाँ है
         छल-प्रपंच, धोखाधड़ी विहीन

लेकिन महानगर की
इस छत के नीचे
उन्हीं बातों का समावेश है
जिनकी कल्पना
मेरा कोमल मन
शायद कर नहीं पाया
कि पग पग पर
पीठ पीछे
पैर खींचने वालों की
तादाद है यहाँ

अपनत्व की तो बात दूर
यह सोचना भी गुनाह है

इसलिए फिर से
वहीं जाने की चाह है
उसी छत के नीचे
जो वास्तव में
मेरी छत है
इस शहर से दूर
सुदूर मेरे गाँव में


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें