अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
10.21.2007
 
एक प्रेमलता कुम्हलाई सी
प्रकाश यादव निर्भीक

हर शाम का वह पहर
जब हर किसी में होड़ होती है
जल्दी जाने को अपने घर
शहर की तेज रफ्‍तार ज़िन्दगी
में होती नहीं किसी को तनिक
फ़िक्र एक प्रेमलता के दर्द की
जिसका पत्थर ही बना हमसफ़र
खड़ी है सहारे जिसके आजतक
निहारती रही अपलक उसकी डगर
जो
किया था प्रेमालाप कभी
इसी जगह इसी मोड़ पर
प्रेमलता कुम्हला सी गई अब
प्रियतम के दीदार को एक नज़र
मिली न छाया स्नेह की उसे
झुलसती रही प्रतीक्षा में
दिनभर
रजनी आई पास जब
साथ लेकर जख्में जिगर
विह्वल हो गई वह अचानक
थरथरा उठे व्याकुल अधर
पर कह न सकी दर्द दिल का
रोती रहीं दोनों रातभर
सुबह होते ही ये अश्रुकण
शबनम बन गये बिखर
रात साथ छोड़ चली गई
संग रह गया फिर वही पत्थर


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें