अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.27.2008
 
अनचाही ज़िन्दगी
प्रकाश यादव निर्भीक

वह ज़िन्दगी जो
जीना नहीँ चाहता
जिसका हरेक क्षण चुभता है मुझे
जिसकी कोई भी अदाएँ
मुझे नहीँ भाती
फिर भी क्योँ है आती वही ज़िन्दगी सन्निकट मेरे
मुझसे करने को प्रीति
सुना था प्रीति होती है
आपस मेँ दोनो तरफ से
तो फिर यह कैसा एकतरफा प्यार
जिससे नफ़रत है मुझे शायद
यह जीवन की कटु सच्चाई है कि
अनचाही ज़िन्दगी ही जीनी पड़ती है सबको यहाँ
क्योँकि चाह की तो कोई सीमा नहीँ होती...


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें