अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
03.13.2009
 

समर्पित गीत
प्रकाश चण्डालिया


मेरे व्यग्राकार चेहरे पर
तेरी सलोनी तन्द्रा
अधरों से
मनोरम गीत
आखिर क्यूँ गुनगुनाती है
मेरे लिए।
मैं गुंफन में पड़ा हूँ।
सादर-सस्नेह
तेरे अधरों पर
चाहता हूँ
क्यूँ मैं समर्पण करना
अपना गीत
फिर भी तेरे लिए।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें