अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
10.05.2016


थाने का कारकून

 चूहेजी की रपट लिखाने,
बिल्ली पहुँची थाने।
जगह जगह पर खोद लिए हैं,
उसने बिल मनमाने।

जब भी जाती उसे पकड़ने,
बिल में घुस जाता है।
दिन भर रहती खड़ी मगर,
वह बाहर न आता है।

कोतवाल ने रपट अभी तक,
लिखी न मेरे भाई।
चूहे के संग मिली भगत ,
मुझको पड़ती दिखलाई ।

रोटी के कुछ टुकड़े चूहा,
थाने भिजवाता है।
थाने का हर कारकून,
मिलकर टुकड़े खाता है।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें