अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
04.01.2017


 सूरज भैया

अम्मा बोली सूरज भैया,
जल्दी से उठ जाओ।
धरती के सब लोग सो रहे,
जाकर उन्हें उठाओ।

मुर्गे थककर हार गये हैं,
कब से चिल्ला चिल्ला।
निकल घोंसलों से गौरैयाँ,
मचा रहीं हैं हल्ला।
तारों ने मुँह फेर लिया है,
तुम मुँह धोकर जाओ।

पूरब के पर्वत की चाहत,
तुम्हें गोद में ले लें।
सागर की लहरों की इच्छा,
साथ तुम्हारे खेलें।
शीतल पवन कर रहा कत्थक,
धूप गीत तुम गाओ।

सूरज मुखी कह रहा भैया,
अब जल्दी से आएँ।
देख आपका सुंदर मुखड़ा,
हम भी तो खिल जायें।
जाओ बेटे जल्दी से जग,
के दुख दर्द मिटाओ।

नौ दो ग्यारह हुआ अँधेरा,
कब से डरकर भागा।
रहा रात भर मालिक जग का,
सुबह छोड़ पद भागा।
समर क्षेत्र में जाकर दिन पर,
अपना रंग जमाओ।

अँधियारे से डरना कैसा,
क्यों उससे घबराना?
हुआ उजाला तो निश्चित ही,
है उसका हट जाना।
सोलह घोड़ों के रथ चढ़कर,
निर्भय हो कर‌ जाओ।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें