अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
04.20.2014


नुस्खे सीखो दादी से

तरबूजा आया था घर में
काटा और खाया था घर में।
रम्मू ने कुछ ज़्यादा खाया
गुड़ गुड़ उसके हुआ उदर में।
नहीं डाक्टर मिला कहीं भी
कर्फ्यू कल से लगा शहर में।
दादी ने देसी नुस्खे से
उसको ठीक किया पल भर में।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें