अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
11.30.2014


मुन्नी बोली ही ही ही ही

मुन्ने ने मुन्नी का बस्ता।
छीन लिया है चलते रस्ता।

मुन्नी जोरों से चिल्लाई।
भीड़ इकट्ठी होकर आई।

सबने मुन्ने को समझाया।
मुन्नी का बस्ता दिलवाया।

मुन्ने बोले सारी दीदी।
मुन्नी बोली ही ही ही ही।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें