अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
04.03.2014


मछली है रंगीन‌

देखो मछली है रंगीन‌
कितनी सुंदर और हसीन।
सोने जैसी चमकीली
लाल गुलाबी और पीली।
पानी में सरसर तैरे
पल में लेती कई फेरे।
आँखें उसकी गोल मटोल‌
नहीं बोलती मुँह से बोल।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें