अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
04.03.2014


कितने पेन गुमाते भैया

करते रहते ताता थैया
कितने पेन गुमाते भैया।
लेकर मम्मी से कुछ पैसे
फिर से नया ले आते भैया।
अब शिक्षण में बदल गया है
लगता है संपूर्ण रवैया।
अब शाला में नहीं पढ़ाते
अद्धा पौना और् सवैया।
टू वन जा टू से होती है
सुबह आजकल उनकी भैया।
लगता है पश्चिम से आकर‌
सिर पर छाया शनि अढ़ैया।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें