अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
07.08.2016


झूठे मक्कारों को दंड

 मक्खीजी की कक्षा में जब,
मच्छर आया लेट।
ज़ोर-ज़ोर से चिल्लाया था,
पकड़े अपना पेट।

दर्द हो रहा मैडम मेरे,
आज पेट में भारी।
इस कारण से लेट हो गया,
वैरी वैरी सारी।

मक्खीजी ने कान पकड़कर,
सिर तक उसे उठाया।
बोली, झूठ बोलने में तू,
बिल्कुल न शरमाया।

अभी राह में मैंने देखा,
था तुमको गपयाते।
तिलचट्टा के साथ पकोड़ी,
आलू छोले खाते।

ऐसा कहकर मक्खीजी ने,
मुर्गा उसे बनाया।
बड़ी ज़ोर से फिर पीछे से,
डंडा एक जमाया।

झूठे मक्कारों को ऐसा ,
दंड दिया जाता है।
ऐसा करने से ही जग में,
सदाचार आता है।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें