अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
02.28.2016


झब्बू का नया साल

सबने खूब मिठाई खाई,
नए नए इस साल में।
झब्बूभैया रूठे बैठे,
थे अब तक भोपाल में।

गए साल में झब्बन के संग,
में छिंदवाड़ा छोड़ा था।
जिस घोड़े पर गए बैठकर,
चाबी वाला घोड़ा था।

नहीं ठीक से चल पाया था,
लंगड़ापन था चाल में।

खूब मनाया झब्बू भैया,
नए साल में घर आओ।
मिट्टी की गुड़ियों के हाथों,
का हलुआ तुम भी खाओ।

पर उनके स्वर थे बदले से,
नहीं दिखे थे ताल में।

तभी अचानक शाम ढले ही,
खट खट खट का स्वर आया।
सबने देखा आसमान से,
झब्बू का घो्ड़ा आया।

बजा तालियाँ लगे नाचने,
सभी खिलौने हाल में।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें