अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
10.27.2014


जीवन का आनंद

उस दिन चौबेजी बड़े प्रसन्न थे, गुलाब के फूल से खिले-खिले। वे हमारे पड़ोस में ही रहते थे। पिताजी बीमार रहते थे, ऊपर से आर्थिक तंगी भी उन्हें घेरे रहती थी। जब तक यहाँ रहे परेशान ही रहे।

मैंने पूछा, "क्या बात है चौबेजी बहुत प्रसन्न दिख रहे हैं चेहरे पर ये ताजगी....।"

"हाँ सर पिताजी का स्वर्गवास पिछले महीने हो गया है, अब आनंद ही आनंद है।"

मैं सोच रहा था पिताजी का स्वर्गवास और आनंद! आनंद की शायद यही परिभाषा हो।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें