अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
02.26.2014


 जयंती या पुण्य तिथि

रात सूरज जनेगी
देख लेना
सुबह सुबह तुम,
उपेक्षा की आकृतियाँ
प्रसव पीड़ा बनकर
चीखेंगी
यह भी देखना तुम,
यह बात ज़रूर है
रात की लाश पर खड़े होकर
लोग पूजेंगे सूरज को
जो अभी अभी जन्मा है
अँधेरे की कोख से
पता नहीं अँधेरे की
पुण्य तिथि मनायेंगे
या उजाले की जयंती।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें