अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.30.2017


जब दुर्गावती रण में निकलीं

जब दुर्गावती रण में निकलीं,
हाथों में थीं तलवारें दो।
हाथों में थीं तलवारें दो,
हाथों में थीं तलवारें दॊ।
जब दुर्गावती रण में निकलीं,
हाथों में थीं तलवारें दो।

धीर वीर वह नारी थी वह,
गढ़मंडल की वह रानी थी।
दूर-दूर तक थी प्रसिद्ध,
सबकी जानी-पहचानी थी।
उसकी ख्याती से घबराकर,
मुग़लों ने हमला बोल दिया।
विधवा रानी के जीवन में,
बैठे-ठाले विष घोल दिया।
मुग़लों की थी यह चाल कि अब,
कैसे रानी को मारें वो।
जब दुर्गावती रण में निकलीं,
हाथों में थीं तलवारें दो।

सैनिक वेश धरे रानी थी,
हाथी पर चढ़ बल खाती थी।
दुश्मन को गाजर मूली-सा,
काटे आगे बढ़ जाती थी।
तलवार चमकती अंबर में,
दुश्मन का सिर नीचे गिरता।
स्वामी भक्त हाथी उनका,
धरती पर था उड़ता-फिरता।
लप-लप तलवार चलाती थी,
पल-पल भरती हुंकारें वो।
जब दुर्गावती रण में निकलीं,
हाथों में थीं तलवारें दो।

जाती थी जहाँ-जहाँ रानी,
बिजली-सी चमक दिखाती थी।
मुग़लों की सेना मरती थी,
पीछे को हटती जाती थी।
दोनों हाथों वह रणचंडी,
कसकर तलवार चलाती थी।
दुश्मन की सेना पर पिलकर,
घनघोर कहर बरपाती थी।
झन-झन ढन-ढन बज उठती थीं,
तलवारों की झंकारें वो।
जब दुर्गावती रण में निकलीं,
हाथों में थीं तलवारें दो।

पर रानी कैसे बढ़‌ पाती,
उसकी सेना तो थोड़ी थी।
मुग़लों की सेना थी अपार,
रानी ने आस न छोड़ी थी।
पर हाय राज्य का भाग्य बुरा,
बेईमानी की घर वालों ने|
उनको शहीद करवा डाला,
उनके ही मंसबदारों ने।
कितनी पवित्र उनके तन से,
थीं गिरीं बूँद की धारें दो।
जब दुर्गावती रण में निकलीं,
हाथों में थीं तलवारें दो।

रानी तू दुनिया छोड़ गई,
पर तेरा नाम अमर अब तक।
और रहेगा नाम हमेशा,
सूरज चंदा नभ में जब तक।
हे देवी तेरी वीर गति,
पर श्रद्धा सुमन चढ़ाते हैं।
तेरी अमर कथा सुनकर ही,
दृग में आँसू आ जाते हैं।
है भारत माता से बिनती,
कष्टों से सदा उबारें वो।
जब दुर्गावती रण में निकलीं,
हाथों में थीं तलवारें दो।

नारी की शक्ति है अपार,
वह तो संसार रचाती है।
माँ पत्नी और बहन बनती,
वह जग जननी कहलाती है।
बेटी बनकर घर आँगन में,
हँसती ख़ुशियाँ बिखराती है।
पालन-पोषण सेवा-भक्ति,
सबका दायित्व निभाती है।
आ जाए अगर मौक़ा कोई,
तो दुश्मन को ललकारे वो।
जब दुर्गावती रण में निकलीं,
हाथों में थीं तलवारें दो।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें