अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
09.24.2014


ईश्वर ने जो हमें दिया है

चूहे ने न्योता चिड़िया को,
बोला घर पर आना।
आज बनाया है चुहिया ने,
नई डिश वाला खाना।

पिज़्ज़ा बर्गर चाऊमीन है,
इडली डोसे भी हैं।
अगर ठीक ना लगें तुम्हें तो ,
बड़े समोसे भी हैं।

कोल्ड ड्रिंक भी तरह तरह के,
हमने हैं मंगवाये।
जूस संतरे सोडे वाले,
घर पर ही बनवाये।

चिड़िया बोली अरे अनाड़ी,
यह कचरा क्यों खाता!
गेहूँ, दाना, रोटी ,चावल,
तुझे नहीं क्या भाता?

हमें प्रकृति ने दिया शुद्ध जल,
दिये अन्न के दाने।
किया धरा पर मन आनंदित,
शीतल शुद्ध हवा ने।

इंसानों ने जिसे बनाया,
उससे क्या है नाता।
ईश्वर ने जो हमें दिया है,
हमको वही सुहाता।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें