अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
09.26.2017


कुछ न कुछ करते रहना है

खाली नहीं बैठना हमको,
कुछ न कुछ करते रहना है।

गरमी की छुट्टी में रम्मू,
प्यारे प्यारे चित्र बनाता।
उन्हें बेचकर मज़े मज़े से,
रुपये रोज़ कमाकर लाता।
इन रुपयों से निर्धन बच्चों,
की उसको सेवा करना है।

लल्ली ने गरमी की छुट्टी,
एक गाँव में काटी जाकर,
कैसे पानी हमें बचाना,
लौटी है सबको समझाकर।
निश्चित इसका सुफल मिलेगा,
बूँद बूँद पानी बचना है।

उमर हुई अस्सी की फिर भी,
दादाजी सबको समझाते।
कचरा मत फेंको सड़कों पर,
कचरा बीमारी फैलाते।
रोज़ बीनते कचरा पन्नी,
कहते हमें स्वस्थ रहना है।

कुछ न कुछ करते रहने से,
होती रहती सदा भलाई।
तन तो स्वस्थ रहा करता है,
मन की होती ख़ूब सफ़ाई।
चिंता फ़िक्र दूर होती है,
बहता ख़ुशियों का झरना है।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें