अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
04.21.2015


हाथी दादा पूजे जाते

सर पर अपने आसमान को,
क्यों हर रोज़ उठाते भैया।
मछली मेंढक से यूँ बोली,
क्यों इतना टर्राते भैया।

मेंढक बोला नियम क़ायदे,
तुम्हें समझ न आते दीदी।
टर्राने वाले ही तो अब,
शीघ्र सफलता पाते दीदी।

नेता जब टर्राता है तो,
मंत्री का पद पा जाता है।
अधिकारी टर्रा कर ही तो,
ऊपर को उठता जाता है।

उछल कूद मेंढक की, मछली,
कहती मुझको नहीं सुहाती।
व्यर्थ कूदने वालों को यह,
दुनियां सिर पर नहीं बिठाती।

हाथी दादा सीधे सादे,
नहीं किसी को कभी सताते।
अपने इन्हीं गुणों के कारण,
अब तक घर घर पूजे जाते।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें