अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
03.15.2014


गधे से सस्ता

हुआ हाथ से,
कठिन उठाना,
इतना भारी बस्ता।
फिर भी मैंने,
इसे उठाया,
हाल हुये हैं खस्ता।

सड़क किनारे,
खड़ा गधा भी,
मुझे देखकर हँसता।
हँसकर कहता,
बच्चा है अब,
हाय गधे से सस्ता।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें