अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
04.20.2014


गाय सलोनी

रोज़ सुबह आ जाती गाय
फाटक पर अड़ जाती गाय।
वापिस कहीं नहीं जाती
जब तक रोटी न मिल जाये।
सबको बहुत सुहाती है
सुंदर और सलोनी गाय।
सब बच्चे मिलकर करते
हर दिन उसको हल्लो हाय। 


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें