अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.29.2016


दादी का जन्म दिवस

आज जन्म दिन है दादी का

धूम मची है सारे घर में।
बच्चों के गाने इक स्वर में।
रम्मी तबला बजा रही है।
पम्मी घर को सजा रही है।

झूम रहे हैं सब मस्ती में,
सब को ज्वर है उन्मादी का।

हँसती है मुस्काती दादी।
सब पर प्यार लुटाती दादी।
सत्तर पार हो गई फिर भी,
है गुलाब सी पुलकित ताज़ी।

बच्चों ने भी घेर लिया है,
उन्हें सजाया शहज़ादी सा।

केक कटा है जन्म दिवस का।
देखो दादीजी का ठसका।
केक काटकर बाँट रही हैं।
हँसती हँसती डाँट रहीं है।

कहतीं आज, दिवस फिर आया,
धूम धड़क्का आज़ादी का।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें